भगवान विष्णु का दूसरा अवतार कुर्मा अवतार | Lord Vishnu Second incarnation



Lord Vishnu Second incarnation as tortoise : भगवान विष्णु का दूसरा अवतार कुर्मा अवतार   



कुर्मा एक संस्कृत शब्द है जिसका मतलब है कछुआ | भगवान श्री हरी  विष्णु ने दूसरा अवतार कछुआ के रूप में देवताओं को राक्षसों से बचाने के लिए लिया था |

दुर्वासा ऋषि के श्राप के कारन देवतागण अपना औज और अमरता खो देते है और शक्तिहीन हो जाते है |
राक्षसों से स्वर्ग हरने के पश्चात् देवता , श्री हरी व्हिष्णुजी के शरण में सहायता के लिए गए  |
तब श्री हरी भगवान विष्णु ने समुद्र मंथन का उपाय बताया |

समुद्र मंथन के लिए मदरांचल पर्वत को मथानी के रूप में और वासुकी नाग का रस्सी के रूप में काम लिया गया |
चूकी देवतागण शक्तिहीन हो गए थे इसलिए उनसे अकेले समुन्द्र मंथन नहीं हो  पा रहा था |
अतः देवताओ ने राक्षसों से समझौता कर समुद्र मंथन कार्य में सहायता ली |
समुद्र मंथन में भगवान विष्णु ने राक्षसों को वासुकि नाग के मुख की ओर तथा देवताओ को पूछ की ओर रखा |
मंथन शुरू होते ही आधार न होने के कारन मदरांचल पर्वत समुद्र में धसने लगा जिसे देख श्री हरी विष्णु ने कुर्मा का रूप धारण कर , मदरांचल पर्वत का आधार बने |

बोलो  विष्णु भगवन की जय |  कुर्मा अवतार की जय | 



lord_vishnu_incarnation_kurma_avatar_as_tortoise

कुर्मा अवतार विष्णुजी के दस अवतारों में दूसरा अवतार 
जानिए भगवान विष्णु के तृतीय अवतार के बारे में 
जानिए भगवान विष्णु के प्रथम अवतार मत्स्य अवतार के बारे में 





टिप्पणियाँ

Aishi Asati ने कहा…
Bhagvan Vishnuji ka Adbhut hai dusara Avtar Kurma
Breaking n Trending ने कहा…
Jai Sri Lord Vishnu .......Nice to read the story of Lord Vishnu second avtar as Kurma in HIndi