Gautam Buddha : गौतम बुद्ध के वचन

गौतम बुद्ध के वचन 
"सभी गलत कार्य मन से ही उपजाते हैं | अगर मन परिवर्तित हो जाय तो क्या गलत कार्य रह सकता है |"

"घृणा, घृणा करने से कम नहीं होती, बल्कि प्रेम से घटती है, यही शाश्वत नियम है |"

"स्वास्थ्य सबसे महान उपहार है, संतोष सबसे बड़ा धन तथा विश्वसनीयता सबसे अच्छा संबंध है|"


gautam_buddha_wallpaper
गौतम बुद्ध के वचन

"मनुष्य का दिमाग ही सब कुछ है, जो वह सोचता है वही वह बनता है |"

"हजारों दियो को एक ही दिए से, बिना उसके प्रकाश को कम किये जलाया जा सकता है | ख़ुशी बांटने से ख़ुशी कभी कम नहीं होती |"

"खुशियों का कोई रास्ता नहीं, खुश रहना ही रास्ता है।"

gautam_buddha_wallpaper

बुद्धं शरणं गच्छामि                                          धम्मं शरणं गच्छामि                             संघम शरणं गच्छामी 

टिप्पणियाँ